LYRIC

ये आइना है या तू है
जो रोज़ मुझको संवारे
इतना लगे सोचने क्यूँ
मैं आजकल तेरे बारे
तू झील ख़ामोशियों की
लफ़्ज़ों की मैं तो लेहर हूँ
एहसास की तू है दुनिया
छोटा सा मैं एक शहर हूँ

ये आइना है या तू है
जो रोज़ मुझको संवारे

ख़ुद से है अगर तू बेख़बर
बेख़बर रख लूँ मैं तेरा ख़याल क्या
चुपके चुपके तू नज़र में उतर
सपनों में लूँ मैं सम्भाल क्या
सपनों में लूँ मैं सम्भाल क्या
मैं दौड़ के पास आऊँ
तो नींद में जो पुकारे
मैं रेत हूँ तू है दरिया
बैठी हूँ तेरे किनारे

ये आइना है या तू है
जो रोज़ मुझको संवारे

तन्हा है अगर तेरा सफ़र
हमसफ़र तन्हाई का मैं जवाब हूँ
होगा मेरा भी असर
तू अगर पढ़ ले मैं तेरी किताब हूँ
पढ़ ले मैं तेरी किताब हूँ

सीने पे मुझको सज़ा के
जो रात सारे गुज़ारे
तो मैं सवेरे से केह दूँ
मेरे शेहर तू ना आ रे

ये आइना है या तू है
जो रोज़ मुझको संवारे.

LYRIC INFORMATION

Composer Amaal Mallik
Lyricist Irshad Kamil
Cast Shahid Kapoor | Kiara Advani | Arjan Bajwa
Director Amaal Mallik
Release date 21st June, 2019

VIDEO