LYRIC

ख्वाबों की दुनिया मुकम्मल कहाँ है
जीने की ख्वाहिश में मरना यहाँ है

हम्म..

मंजिल यही है यही कारवां है
जीने की ख्वाहिश में मरना यहाँ है

सर पर उठाया है क्यूँ आसमां को
अगर बढ़ है जाती तेरी धड़कने..

सहमी है धड़कन
सिहरी है धड़कन
ठहरी है धड़कन
तो क्या हो गया

सहमी है धड़कन
सिहरी है धड़कन
ठहरी है धड़कन
तो क्या हो गया

पुरानी किताबों के पन्ने सभी
गवाही यहाँ देने आ जायेंगे
ख्यालों में यादों के आकर उजाले
सभी दाग़ दिल के मिटा जायेंगे

किसको फिकर है तुम्हारी यहाँ पर
अगर बढ़ है जाती तेरी धड़कने..

सहमी है धड़कन
सिहरी है धड़कन
ठहरी है धड़कन
तो क्या हो गया

सहमी है धड़कन
सिहरी है धड़कन
ठहरी है धड़कन
तो क्या हो गया

ओ ओ..

LYRIC INFORMATION

Composer Vipin Patwa
Lyricist Dr Sagar
Cast Aditi Rao Hydari | Anurag Kashyap | Richa Chadha
Director Vipin Patwa
Release date 23rd March, 2018

VIDEO